ब्रेकिंग हल्द्वानी : गौला बैराज में युवती का पैर फिसला तो मच गई अफरा-तफरी , फिर भगवान बना ये जवान

548

हल्द्वानी: जनपद नैनीताल स्थित काठगोदाम गौला बैराज में जब तक उत्तराखण्ड पुलिस के जल तैराक (गोताखोर) मनोज बहुखंडी है तब तक कोई अनहोनी नहीं हो सकती है। मनोज ने अपने साहस से मौत को मात देकर एक युवती की जान बचाई है। मामला बुधवार का है,गौला बैराज में सितारगंज निवासी दीक्षा पुत्री प्रहलाद पैर फिसलने के कारण बैराज में गिर गयी। घटना के बाद  अफरा तफरी मच गई। उसी दौरान मनोज बैराज के पास ही थे।

हल्द्वानी: इस क्रिकेट कोच के युवा खिलाड़ियों को मिला बड़े मंच का टिकट, कोई इंडिया खेला तो कोई…

Image may contain: 4 people, shoes and outdoor

उन्होंने बिना देरी करते हुए युवक हरीश सिंह के साथ अपनी जान की परवाह न करते हुए बैराज में छलांग लगा दी और महिला को बचाकर किनारे ले आये। युवती को बचाते समय मनोज बहुखंडी भी चोटिल हो गये। वहां पर मौजूद लोगां ने उनके कार्य की भरपूर प्रसंसा की। युवती को बचाने के बाद एक बार फिर मनोज की काफी तारीफ हो रही है। पुराने रिकॉर्ड की मानें तो उन्होंने अब तक 20 से ज्यादा लोगों की जान बचाई है। घटना के बाद एसओ कमल हसन ने बताया कि युवती बैराज में घूमने आई थी और उसी दौरान उसे चक्कर आ गए, जिस कारण से वो नदी में गिर गई। युवती को उत्तराखण्ड पुलिस ने तैराक जवान मनोज बहुखंडी ने युवती को बचा लिया। वहीं युवती को मामूली चोट आई है जो अब वह स्वस्थ्य है।

यह भी पढ़ें: प्रकाश डेंटल हॉस्पिटल डेंटल टिप्स

Image may contain: 2 people, people standing, outdoor and nature

यह भी पढ़ें: मनोवैज्ञानिक उपचार देगा मानसिक रोग को मात: डॉक्टर नेहा शर्मा

वहीं 23 जुलाई को आत्महत्या के इरादे से गौला बैराज पहुंची महिला को भी मनोज ने मौत के मुंह से बाहर निकाल दिया था। अपने साहस के परिचय से मनोज बहुखंडी की पूरे जिले में पहचान बन गई है। वहीं पिछले कुछ वक्त से उत्तराखण्ड पुलिस के जवानों ने राज्य में कई अनहोनी घटनाओं को होंने से रोका है। हरिद्वार में कांवडिए को बचाने का मामला हो या फिर चोरगलिया में बह रही रोडवेज बस से 28 लोगों की जान बचाने का। जवानों ने अपने कर्तव्य को अपनी जिंदगी से ऊपर जगह दी है।