उत्तराखंडः डोल आश्रम घूमने गए युवक की संदिग्ध हालात में मौत, 13 दोस्तों पर केस दर्ज

हल्द्वानीः अल्मोड़ा से एक ऐसी घटना सामने आ रही है जिसने पूरे क्षेत्र में सनसनी फैला दी है। सितारगंज के सिडकुल क्षेत्र से अल्मोड़ा के डोल आश्रम घूमने पहुंचे युवकों में से एक की संदिग्ध हालात में मौत हो गई। उसके साथियों का कहना है कि वह गधेरे में गिर गया। लेकिन परिवारवालों ने हत्या का आरोप लगाते हुए सभी 13 साथियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। राजस्व पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया है।

बता दें कि मृतक सिडकुल में लेबर सप्लाई करता था। पटवारी हेमचंद्र पलड़िया ने बताया कि रविवार को सितारगंज के 13 युवक जागेश्वर अल्मोड़ा निवासी राजेश भट्ट (36) पुत्र माधवनंद भट्ट के साथ लमगड़ा के डोल आश्रम घूमने आए थे। वहां से वापस लौटते समय सभी लोग धारी के सरना मटियाल के जंगल में मीट और चावल बनाने के लिए ठहरे। सभी लोग शाम छह बजे तक जंगल में पार्टी कर रहे थे। साथियों का कहना था कि पार्टी के बाद जब सभी लोग गाड़ी में पहुंचे तो राजेश कहीं दिखाई नहीं दिया। सभी ने उसकी तलाश की। साथियों ने आवाज देकर ग्रामीणों को बुलाया। ग्रामीणों के आने के बाद राजेश पास के गधेरे गिरा मिला। ग्रामीणों की मदद से गंभीर रूप से घायल राजेश का निकाला गया। जहां से उसे भीमताल सीएचसी ले जाया गया। वहां डॉक्टरों ने उसे हल्द्वानी रेफर कर दिया। लेकिन बेस अस्पताल पहुंचने पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। 

भतीजे की मौत की खबर लगते ही मृतक के चाचा एवं जागेश्वर मंदिर समिति के सदस्य भगवान चंद्र भट्ट मौके पर पहुंचे। उन्होंने सोमवार को सरना राजस्व पुलिस को मृतक के सभी 13 साथियों के खिलाफ तहरीर सौंपी। तहरीर के आधार पर राजस्व पुलिस ने दीपक सिंह, मंगली प्रसाद, ललित मोहन सुयाल, विजय सिंह, राजू कौड़ी, विशाल, दीपक लाल, रामगुप्ता, विक्रम रावत, राजेश सरकार, पूरन सिंह, आनंद सिंह और अजय कुमार के खिलाफ 302 के तहत हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। सभी आरोपियों के अलग-अलग बयान होने पर राजस्व पुलिस भी हत्या ही मान रही है। राजस्व पुलिस ने मौके से शराब की खाली बोतलें और अन्य सामान बरामद किया है। राजेश की मौत के बाद परिवार में कोहराम मच गया है।