हल्द्वानी: मनुष्य के शरीर को स्वस्थ्य रहने के लिए विटामिन और प्रोटीन की जरूरत होती है। ये दोनों ही चीजे शरीर के लिए बेहद महत्वपूर्ण और लाभदायक होती है। इस लिस्ट में आता है विटामिन-डी। हल्द्वानी साहस होम्योपैथिक के क्लीनिक के डॉक्टर एनसी पांडे ने इसकी कमी को दूर करने के टिप्स बताए।

डॉक्टर एनसी पांडे के अनुसार  विटामिन-डी वसा घुलनशील प्रो -हार्मोन का एक समूह होता है। त्वचा जब धूप के संपर्क में आती है तो शरीर में विटामिन डी के निर्माण की प्रक्रिया शुरू होती है। धूप विटामिन डी का एक बहुत अच्छा स्रोत है। इसके अलावा यह मछलियों में भी पाया जाता है। विटामिन डी की मदद से हड्डियों को मजबूती बनती है, इसके अभाव में हड्डी कमजोर होती है वह टूट भी सकती है।

छोटे बच्चों में अगर यह स्थिति होती है तो इसे रिकेट्स कहते हैं, अथवा बड़े लोगों में इस स्थिति को ऑस्टियोपोरोसिस कहते हैं । इससे से शरीर में होने वाले दर्द में भी आराम मिलता है तथा विटामिन डी कैंसर क्षय रोग जैसे रोगों से भी बचाता है । यह जानकर आपको आश्चर्य होगा कि आजकल बहुत सारे लोग शरीर में विटामिन डी की कमी से ग्रस्त है । लक्षण: ज्यादा थकान लगना, डिप्रेशन की समस्या रहना, मांसपेशियों में खिंचाव होना, जोड़ों में दर्द, हड्डी का दर्द होना, कमर दर्द व पीठ में दर्द होना, विटामिन डी की कमी से महिलाओं में बाल झड़ने की समस्या भी हो सकती है।

हल्द्वानी साहस होम्योपैथिक के क्लीनिक के डॉक्टर एनसी पांडे विटामिन डी की कमी को पूरा करने के हेतू कुछ दवायां बताई जिसके सेवन से रोगी इस परेशानी को दूर कर सकता है।

  •  Homeocal (दो गोली सुबह दोपहर शाम )
  • vitamin-D plus (एक गोली दिन में एक बार)