मिस वर्ल्ड मानुषी की लगी BACK, एक्जाम नहीं दिया तो MBBS कॉलेज ने परीक्षा देने पर लगाई रोक

265

नई दिल्ली: विश्व सुंदरी मानुषी छिल्लर के लिए बुरी खबर है। उनके सपने यानी डॉक्टर बनने की राय पर रुकावत पैदा हो गई है। उन्होंने मिस वर्ल्ड प्रतियोगिता में भाग लेने व जीतने के बाद कॉलेज ज्वाइन नहीं किया , ना की कोई पत्र कॉलेज प्रशासन को दिया, जिसके बाद उन्हें आगे की परीक्षा देने के लिए रोक दिया गया है।

Image result for मानुषी छिल्लर

गोहाना के खानपुर में स्थित भगत फूल सिंह महिला मेडिकल में पढ़ने वाली मिस वर्ल्ड 2017 बनी मानुषी छिल्लर ने दूसरे प्रॉफ के जनवरी 2018 में हुए एक्जाम अौर अप्रैल व मई में हुए सप्लीमेंट्री एक्जाम नहीं दिए। इसके बाद गोहाना के खानपुर में स्थित भगत फूल सिंह महिला मेडिकल कॉलेज ने एक्शन लेते हुए उन्हें एक्जाम के लिए बैन लगा दिया गया है। अब अगर मानुषी को एक्जाम देना है और अपनी आगे की पढ़ाई पूरी करनी है तो पीजीआई में पत्र देना होगा। जिसके अलावा उन्हें परीक्षा में बैठने के लिए  हर प्रॉफ में थ्योरी में 75 प्रतिशत व प्रेक्टिकल में 80 प्रतिशत उपस्थिति करनी होगी।

Image result for मानुषी छिल्लर

बता दें कि देश को 17 साल बाद मिस वर्ल्ड का ख़िताब जीतने वाली मानुषी छिल्लर अपनी डॉक्टरी की पढ़ाई के लिए पहला प्रॉफ पूरा कर लिया था अौर जब मानुषी मिस वर्ल्ड के लिए गई थी तो उसका दूसरा प्रॉफ हो गया था। उस समय मानुषी छिल्लर  ने छुट्टी के लिए पत्र दिया था लेकिन मिस वर्ल्ड बनने के बाद अभी तक कॉलेज नहीं आई हैं।

Image result for मानुषी छिल्लर

वहीं एक्जाम को लेकर भी मानुषी ने कॉलेज प्रशासन से कोई संपर्क नहीं किया। कालेज प्रशासन की मानें तो मानुषी ने जनवरी 2018 में हुए प्रॉफ एक्जाम व अप्रैल अौर मई में हुए सप्लीमेंट्री एक्जाम भी नहीं दिए। इलके अलावा मानुषी ने एक्जाम नहीं देने को लेकर उसकी तरफ से कोई लिखित सूचना भी नहीं दी गई। किसी भी एमबीबीएस विद्यार्थी को मेडिकल कॉउंसलिंग के नियमों का पालन करना होता है, उसी के आधार पर परीक्षा दे सकता है। इसके लिए इसके लिए 75 प्रतिशत हाजरी व इंटरनल परीक्षा में 35 फीसदी मूल्यांकन जरुरी होता है।