ऑस्ट्रेलियाई मंत्री ने टीम इंडिया के लिए उगला ज़हर,उत्तराखंड के कोच वसीम जाफर ने दिया करारा जवाब

हल्द्वानी: भारत-ऑस्ट्रेलिया के बीच ऑस्ट्रेलियाई सरज़मीं चल रही टेस्ट सीरीज़ में माहौल खासा गर्म होते जा रहा है। दरअसल दोनों टीमों के बीच पहले तो तीसरा मैच सिडनी में होना है, जिसके बाद चौथा मुकावला गाबा ब्रिसबेन में खेला जाएगा। वहां के बायो बबल प्रोटोकोल को देखते हुए भारत के खिलाड़ियों और स्टाफ की तरफ से ब्रिसबेन जाने के लिए आपत्ति जताई गई थी। दरअसल भारतीय टीम दौरे के अंत में दोबारा बायो बबल वाले सख्त नियमों को फॉलो नहीं करना चाहती। इसलिए उन्होंने मांग की थी कि तीसरा और चौथा मौच एक ही जगह पर खेला जाए।

इस आपत्ति के जवाब में क्वींसलैंड की स्वास्थ्य मंत्री रोस बेट्स ने भारत की टीम को जवाब दिया। जिसमें उन्होंने कहा कि भारतीय टीम के पास यहां आ कर मैच खेलने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने भारतीय टीम को चेतावनी देते हुए यह भी कहा था कि आपको खेलना है तो यहीं आकर खेलों वरना मत खेलो। अब इसका जवाब भारत क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और उत्तराखंड क्रिकेट टीम के वर्तमान कोच वसीम जाफर ने दिया है।

यह भी पढ़े: हल्द्वानी में शुरू हुए ब्लड डोनेशन कैंप, बैंक में खून की कमी को देखते हुए प्रशासन का फैसला

यह भी पढ़े: श्रमजीवी पत्रकार यूनियन:योगेश शर्मा बनें हल्द्वानी महानगर का अध्यक्ष, युवाओं के लिए बोली अहम बात

उत्तराखंड के कोच वसीम जाफर इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव दिख रहे हैं। इसी कड़ी में उन्होंने भारत को चेतावनी देने वाली क्वींसलैंड की स्वास्थ्य मंत्री रोस बेट्स को भी सोशल मीडिया के एक पोस्ट के ज़रिए आड़े हाथों लिया है।

वसीम जाफर ने कहा कि ‘हमारे नियमों से खेलें या न आएं। बैग में बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी दे दी जाए।’ बता दें कि जाफर ने अपने इस ट्वीट में जोफ्रा आर्चर की तस्वीर लगाई है, जिसमें वो पीछे एक बैग टांगे हुए हैं और मुस्कुरा रहे हैं।

आपको बता दें कि मौजूदा बॉर्डर-गावस्कर सीरीज़ ते कीसरे मैच से पहले इंडिया की टीम खासा मुश्किलों का सामना कर रही है। ऐसा इसलिए कि हाल में एक फैन ने भारत के पांच खिलाड़ी रोहित शर्मा, शुभमन गिल, पृथ्वी शॉ, रिषभ पंत और नवदीप सैनी का एक रेस्त्रां के अंदर बैठ कर खाना खाते वक्त का वीडियो सोशल मीडिया पर अपलोड किया था।

जिसकी जांच सीए और बीसीसीआई द्वारा की जा रही है। अगर जांच के बाद इसे बायो बबल प्रोटोकोल का उल्लंघन माना जाता है, तो खिलाड़ियों पर कार्यवाही भी की जा सकती है।

यह भी पढ़े: उत्तराखंड:जखेड़ गांव के रॉबिन बिष्ट बनें सिक्किम क्रिकेट टीम के कप्तान

यह भी पढ़े: लोनिवि ने बिना सूचना बंद किया हल्द्वानी-भीमताल मार्ग, महिला ने ऑटो में ही दिया जुड़वा को जन्म

यह भी पढ़ें: इंदिरा हृदयेश को उम्र के हिसाब से मार्गदर्शन मंडल में चले जाना चाहिए:मदन कौशिक

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में चौकी इंचार्ज को मिली लापरवाही की सजा,SSP ने किया सस्पेंड

Join WhatsApp Group & Facebook Page

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा WhatsApp Group ज्वाइन करें।
Join Now

उत्तराखंड की ताजा खबरें मोबाइल पर प्राप्त करने के लिए अभी हमारा Facebook Page लाइक करें।
Like Now