विश्वकप में उलटफेर की हो गई शुरूआत, बांग्लादेश ने दोहराया 2007 का इतिहास

नई दिल्ली:क्रिकेट विश्वकप उलटफेर के लिए जाना जाता है। कमजोर टीमें मजबूत टीमों को मात देकर कभी ना भूलने वाला गम दे देती है। उलटफेर और विश्वकप का नाता काफी पुराना है। साल 2019 के विश्वकप में बांग्लादेश ने साउथ अफ्रीका को हराकर अपने इरादे जाहिर कर दिए हैं। ये वहीं साउथ अफ्रीका है जिसे क्रिकेट जगत हर बार की तरह इस बार भी खिताब का दावेदार मान रहा है। चौकाने वाली बात यह रही कि बांग्लादेश मजबूत साउथ अफ्रीका गेंदबाजी के आगें 330 रन बना बैठा। वहीं उसके गेंदबाजों ने बल्लेबाजों की मेहनत को बर्बाद नहीं जाने दिया और अफ्रीका को 21 रनों से मात दी। यह दूसरा मौका है जब बांग्लादेश ने साउथ अफ्रीका को विश्वकप के मुकाबले में हराया है। साल 2007 में उसने पहली बार उसे मात दी थी। उसी विश्वकप में बांग्लादेश ने भारत को भी हराया था।

इस मैच में बांग्लादेश ने अना सिर्फ अपना सर्वोच्च वनडे स्कोर 330 रन बनया बल्कि टीम के हरफनमौला खिलाड़ी व अपना चौथा वर्ल्ड कप खेल रहे शाकिब अल हसन ने वनडे क्रिकेट में इतिहास रच दिया है। उन्होंने क्रिकेट के एक दिवसीय फॉर्मेट में सबसे तेज 5,000 रन और 250 विकेट लेने का कारनामा अपने नाम किया। शाकिब ने ये उपलब्धि 12वें क्रिकेट वर्ल्‍ड कप के 5वें मैच में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ हासिल की।

इस मैच से पहले शाकिब को 250 विकेट के आंकड़े को छूने के लिए एक विकेट की जरूरत थी। उन्‍होंने अपना 250वां शिकार दक्षिण अफ्रीकी ओपनर एडेन मार्करम को बनाया। शाकिब ने मार्करम को 45 रन के निजी स्‍कोर पर बोल्‍ड किया। इससे पहले 32 वर्षीय इस बांग्‍लादेशी खिलाड़ी ने बल्‍ले से भी कमाल दिखाया। उन्‍होंने इस मैच में 84 गेंदों पर 8 चौकों और एक छक्‍के की मदद से 75 रन की शानदार पारी खेली जिसकी बदौलत बांग्‍लादेश की टीम वनडे में अपना सर्वश्रेष्‍ठ स्‍कोर बनाने में सफल रही।

शाकिब ने इस उपलब्धि को हासिल करने के लिए 199 वनडे का सहारा लिया। उनके वनडे इंटरनेशनल में अब कुल 5,792 रन हो गए हैं। शाकिब वनडे इतिहास में 5वें ऑलराउंडर हैं जिन्‍होंने 5 हजार से अधिक रन बनाने के अलावा 250 से अधिक विकेट लिया हो। इस मुकाबले में शाकिब के 75 रनों के अलावा मुशफिकुर रहीम ने 78 रनों की शानदार पारी खेली।