जानवरों की हत्या एक अपराध है, वह भी हमारे समाज का अंग है, उन्हें भी जीने का हक है। एक तोते की पीटरकर हत्या करने के आरोप में कोर्ट ने महिला को 4 महीने के करावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने साफ किया कि महिला ने जानबूझकर तोते की हत्या की है और वो अपराधी है। मामाला सिंगापुर का है। सौतेली बेटी के तोते को पीट-पीट कर मारने के जुर्म में बुधवार को कोर्ट एक महिला को चार हफ्ते के कारावास की सजा सुनाई है। वियतनाम मूल की महिला 38 साल की त्रान थी थुई हैंग के दाहिने गाल में उसकी सौतली बेटी के तोते ‘लकी’ ने पिछले साल 27 अक्तूबर को काट लिया था। इस पर उसने पिजड़े में ही तोते को मार डाला। स्थायी रूप से यहां रहने वाली हैंग ने तोते द्वारा काटे जाने के बाद तुरंत अपने साठ साल के पति यू ची मेंग से इसकी शिकायत की और घर से उसे बाहर निकालने को कहा।

खबरों के अनुसार जिस समय तोते ने हैंग को काटा उस वक्त वह उसकी सौतेली बेटी यू मे लिंग के कंधे पर बैठा था, उस वक्त लिंग बैठक में मौजूद थी। हैंग उसके पीछे आयी, इसी दौरान लकी उसकी तरफ उड़ा और दाहिनी गाल में काट लिया।

 

अभियोजक तथा कृषि खाद्य एवं वेटेरिनरी अधिकारी याप टेक चुआन ने अदालत को बताया, ”क्रोध में उन्होने (हैंग ने) लकी को घर से तुरंत निकालने की मांग की और कहा कि अगर ऐसा नहीं होता है तो वह उसे मार देगी। अगले दिन मेंग और उनकी बेटी लिंग सुबह नाश्ते के लिए घर से बाहर गए। इसी दौरान हैंग ने एक थापी (बांस का कपड़े धोने के लिए बना मोगरा) लिया और लकी का पिंजड़ा खोला और उसे मार डाला। इसके बाद उसने अपने परिवार को इस बारे में बताया।